Sign up for our weekly newsletter

News Updates
Popular Articles
Videos
  • More than 5 million people die each year because of extreme temperature conditions

  • Global COVID-19 death toll crosses 4 million

जलवायु संकट

क्या अगले पांच वर्षों में 1.5 डिग्री सेल्सियस की सीमा को पार कर जाएगी तापमान में हो रही वृद्धि

संयुक्त राष्ट्र के अनुसार इस बात की 40 फीसदी सम्भावना है कि अगले पांच वर्षों में वैश्विक तापमान में हो रही वृद्धि 1.5 डिग्री सेल्सियस की सीमा को पार कर जाएगी

ग्लोबल वार्मिंग

जलवायु परिवर्तन के चलते प्रजनन क्षमता खो रहे हैं जीव: अध्ययन

अध्ययन में चेतावनी दी गई है कि जलवायु परिवर्तन के दौरान तापमान से होने वाली प्रजनन हानि जैव विविधता के लिए एक बड़ा खतरा ...

जलवायु संकट

क्या अजन्मों को गर्भ में ही मार रहा है बढ़ता तापमान?

अनुमान है कि स्टिलबर्थ के 17 से 19 फीसदी मामलों के लिए गर्भावस्था के दौरान अत्यधिक गर्म और ठन्डे तापमान का संपर्क ही जिम्मेवार ...

जलवायु संकट

वायु प्रदूषण और जलवायु परिवर्तन के चलते हर अमेरिकी पर पड़ रहा है 1.8 लाख रुपए का अतिरिक्त बोझ

साथ ही अमेरिका में जीवाश्म ईंधन के कारण होने वाला वायु प्रदूषण हर साल करीब 1.07 लाख लोगों की जान भी ले रहा है

ग्लोबल वार्मिंग

भारतीय इतिहास का आठवां सबसे गर्म वर्ष रहा 2020

2020 में तापमान सामान्य से 0.29 डिग्री सेल्सियस अधिक रिकॉर्ड किया गया जबकि जलवायु से जुडी आपदाओं के चलते देश भर में 1,500 से ...

भीषण गर्मी और ठंड से हर साल मरते हैं 50 लाख से ज्यादा लोग

भारत में जहां भीषण गर्मी के कारण हर साल 83,700 लोगों की जान जाती है, वहीं अत्यधिक ठंड के कारण मरने वालों का आंकड़ा करीब 6.55 लाख है

सदी के अंत तक 840 करोड़ लोगों पर मंडराने लगेगा डेंगू और मलेरिया का खतरा

हैरानी की बात है कि आज जिस तरह जलवायु में बदलाव आ रह है उसकी वजह से मच्छर उन स्थानों पर भी पनपने लगे हैं, जहां वो पहले नहीं पाए जाते थे

तेजी से पिघल रहे हैं एशिया के ऊंचे पहाड़ों पर मौजूद ग्लेशियर

हैरानी की बात यह है कि जिन क्षेत्रों में पहले ग्लेशियर बढ़ रहे थे, वहां भी अब ग्लेशियर पिघल रहे हैं

अत्यधिक सिंचाई का भारतीय मानसून पर पड़ता है असर, चरम मौसम बढ़ने की आशंका: अध्ययन

मध्य भारत में हाल के दशकों में अत्यधिक बारिश हुई है, सिंचाई और वाष्पीकरण में वृद्धि के चलते इस तरह की घटनाएं बढ़ जाती हैं।

हर साल औसतन 87 हजार वर्ग किलोमीटर सिकुड़ रहे हैं पृथ्वी पर जमे हुए पानी वाले इलाके

जमे हुए पानी वाले सभी इलाके मुख्य रूप से उत्तरी गोलार्ध में तेजी से घट रहे हैं, जिसमें हर साल लगभग 102,000 वर्ग किलोमीटर का नुकसान हो रहा है।

पांच क्षेत्रों में खतरनाक तरीके से बढ़ रही है ग्रीनहाउस गैस, अध्ययन से हुआ खुलासा

वैज्ञानिकों ने दुनिया भर के 10 क्षेत्रों में ग्रीन हाउस गैस उत्सर्जन के बारे में पता लगाया, साथ ही तुलना की कि प्रत्येक में कौन से क्षेत्र सबसे बड़े उत्सर्जन के लिए जिम्मेदार हैं और सबसे ज्यादा वृद्धि कहां ...

समुद्र के बढ़ते जल स्तर के कारण खतरे की जद में हैं 26.7 करोड़ लोग

वैज्ञानिकों का अनुमान है कि यदि जलवायु में आ रहे बदलावों को रोकने के लिए ठोस कदम न उठाए गए तो सदी के अंत तक यह आंकड़ा बढ़कर 41 करोड़ पर पहुंच जाएगा

पिछले 38 सालों में उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों के ग्लेशियरों की 93 फीसदी बर्फ हुई गायब

दूसरा सबसे बड़ा उष्णकटिबंधीय ग्लेशियरों का इलाका, क्वेल्काया आइस कैप का सतही क्षेत्र है, जहां 1976 से 2020 तक बर्फ के क्षेत्र में 46 फीसदी की कमी आई।